रविवार, 15 नवंबर 2009

Dosti.................

हमने तो अपने रास्ते तब-तब बदल दिए ....
जब-जब निगाह -ऐ -यार में कुछ दुश्मनी दिखी ,
अब तक गुजर चुके हैं हर एक रहगुज़र से हम
पर क्या करे अब दोस्ती दिखती नहीं कहीं !!


~~rishu~~

1 टिप्पणी: