गुरुवार, 17 दिसंबर 2009

जिंदगी..............




कुछ इस तरह से जिंदगी अब कट रही है दोस्तों
प्यार में, परिवार में, दोस्ती-व्यवहार में 

बँट रही है दोस्तों
अब तलक तो चल रही थी सीधे रस्ते पर मगर
आज कल लगता है थोडा 

हट रही है दोस्तों
कल तलक जो पूज्य थे आदर्श इज्ज़तदार थे
आज कल उनकी भी इज्ज़त 

घट रही है दोस्तों
दोस्त थे वो कल भी..दोस्त हैं अब भी मगर
अपनी तो उनसे भी कन्नी 

कट रही है दोस्तों !!!!

~~rishu~~

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें