गुरुवार, 4 नवंबर 2010

शुभ दीपावली......

रात आई और दीयों की रौशनी दिखने लगी, मसरूफियत के बीच हमको भी ख़ुशी दिखने लगी!
जश्न-ऐ-दिवाली है सजे हैं घर अमीरों के,गुमशुदा गलियों में फैली मुफलिसी दिखने लगी !!

~~rishu~~

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपको भी सपरिवार दिपोत्सव की ढेरों शुभकामनाएँ
    मेरी पहली लघु कहानी पढ़ने के लिये आप सरोवर पर सादर आमंत्रित हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना, दीपावली की शुभकामनाये
    sparkindians.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    उत्तर देंहटाएं