गुरुवार, 4 नवंबर 2010

Ek Sher.........

कभी रोता हूँ तो खिलखिला के हंसती है,जिंदगी अब भी मेरी ख्वाहिशो से जलती है!
अकेला देखकर मुझको ये भूल जाती है,मेरे संग में मेरी माँ की दुआ भी चलती  है !!

~~rishu~~

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुबसूरत शेर , दीवाली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं