रविवार, 23 सितंबर 2012

Still waiting.... :(





कहूँ कैसे तुम्हारे बिन ये रात और दिन गुज़ारे हैं 

भरी महफ़िल में भी तनहा कई पल-छिन गुज़ारे  हैं 
मिलोगे तुम कभी शायद इसी एहसास में जीकर
न जाने कितने लम्हे हमने तारे गिन गुज़ारे हैं !!

~~rishu~~

शनिवार, 22 सितंबर 2012

एक आंसू..जो..


एक आंसू..जो..
अंतर्मन की व्यथा से उपजा पला-बढ़ा था
मर्यादा के बीच दबा कुचला सा पड़ा था 
अब तक जो संवेदनाओ के बीच बंद था 
जो कुंठा की जंजीरों से बंधा खड़ा था 
--------
आज अचानक जाने कैसे उबल उठा है 
नयनसिंधू में कैसा भीषण ज्वार उठा है 
दिल के सारे अरमानों को बहा ले गया
ज़ीने की उम्मीद ना जाने कहाँ ले गया 
अब इस जिंदा लाश को लेकर कहाँ रहूँगा 
अपने जन के हाथों कितनी बार मरूँगा

--------
आखिर कब तक यूँ घूँट खून का पीना होगा

कब तक यूँ घुट-2 कर मुझको जीना होगा
---
कब तक अपनी मज़बूरी से प्यार करूँ मैं
कब तक सबसे मनचाहा व्यव्हार करू मैं 
इक्षा है सर्वस्व समर्पण कर जाऊं अब
यूँ ज़ीने से बेहतर है की मर जाऊं अब  !!

~~rishu~~

रविवार, 22 जुलाई 2012

आज फिर.....


आज फिर तू पास नहीं है
तेरे होने का अहसास नहीं है
बहुत मुश्किल है यूं तो भूलना तुझको
फिर भी कहता हूँ की तू याद नहीं है

कभी गुजरी थी जो रातें
तेरे पहलू में सर रख कर
अब इन रातों में उन रातों में अंतर खास नहीं है
तू तब भी ख्वाब थी मेरा
तू अब भी एक तसव्वुर है
मगर पहले से अब तेरे मेरे ज़ज्बात नहीं हैं

~~rishu~~